FUDISEX

PORN DIRECTORY, sex stories, indian sex stories, desi sex stories, hindi sex stories, aunty sex, virgin sex,

कुंवारी बुर की चुदाई

अपने पहले ही सेक्स में मुझे एक कुंवारी बुर की चुदाई करने को मिली.
मैं आपको पहले अपना नाम बता देना चाहूँगा, मेरा नाम अंकुश है, उम्र 19 साल है और मैं इलाहाबाद में रहता हूँ।
यह बात अभी 3 महीने के पहले की है तब मैंने 12वीं के एक्साम दिए थे और आगे की पढ़ाई के बारे में सोच रहा था.
तभी फ़ोन आया कि मेरे नाना की तबीयत ख़राब हो गई और मम्मी-पापा ने मुझे मेरे नाना के घर भेज दिया. मैं वहाँ पर पहले भी रह चुका था इसलिए मुझे वहाँ रहने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई, मैं आराम से रह रहा था.
वहाँ पर मैं और मेरे नाना के अलावा मेरी मामी भी थी, मामी बहुत ही गुस्से वाली थी इसलिए मैं उनसे डरता था.
सामने वाले घर में एक बहुत ही खूबसूरत लड़की रहती थी जिसका नाम उपासना था, वो बहुत ही खूबसूरत थी और गली मोहल्ले के सारे लड़के उसे पटाने में लगे रहते थे पर वह किसी से कुछ बात नहीं करती थी। धीरे धीरे वो मुझे भी अच्छी लगने लगी थी।
वो मेरे घर पर अक्सर आती थी और मेरी मामी से बातें किया करती थी और हंसने लगती थी।
एक दिन मैंने उसे बोल दिया कि मैं उससे बहुत प्यार करता हूँ, उसने कुछ जवाब नहीं दिया और वहाँ से चली गई।
फिर वो मुझे बाज़ार में मिली और उसने भी कहा कि वो मुझसे प्यार करती हैं और वहाँ से सामान लेकर चली गई।
एक दिन मेरे नाना की तबीयत ख़राब हो गई सब उन्हें लेकर अस्पताल चले गए, मैं घर पर अकेला था।
मैंने सोचा क्यों ना उपासना के घर चला जाए, मैं वहाँ पर गया, वहाँ पर उसकी मम्मी थी, मैं उन्हें बड़ी मामी कह कर बुलाता था, वो मुझे अपने बेटे की तरह मानती थी.
मैंने उन्हें नमस्ते की और मुझे बैठने को कहा.
वो चाय बनाने चली गई, मैं वहाँ पर ना बैठ कर सीधा उपासना के कमरे में गया. वहाँ पर मैंने जो देखा, मैं उसे देख के हैरान हो गया, वो अपने पर्सनल कम्प्यूटर पर ब्लू फिल्म देख रही थी।
उसने जब मुझे देखा तो वो हड़बड़ा गई और कम्प्यूटर बंद करने लग गई.
फिर उसने मुझसे कहा कि वो डी.वी.डी. उसकी सहेली श्वेता ने दी है, वो तो बस ऐसे ही देख रही है।
तभी उसकी मम्मी वहाँ पर आ गई और मैं हॉल में चला आया, वहाँ पर चाय पी और घर चला आया।
घर आने पर मामी का फ़ोन आया कि वो आज नहीं आयेंगे, तू बड़ी मामी के यहाँ से खाना खा लेना.
मैंने कहा- ठीक है.
मामी ने फोन करके बड़ी मामी को मेरा खाना बनाने के लिए कह दिया।
मैं रात को जब वहाँ पर खाना खाने के लिए पहुंचा तब मैंने देखा, वहाँ पर सिर्फ उपासना है. मैंने उससे उसकी मम्मी के बारे में पूछा तो उसने कहा- वो सो गई हैं, उनके सर में दर्द हो रहा था।
मैं खाना खाकर उठ के जाने ही वाला था कि उसने कहा कि मेरे कमरे में चलो!
मैं उठ कर उसके कमरे में गया जो उपर था. वहाँ पर कम्प्यूटर पर एक ब्लू फिल्म चल रही थी. मेरे पहुँचते ही उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया, मैं इस उसके इस हमले से हक्का बक्का रह गया मुझ पर भी सेक्स सवार हो गया, मैंने उसकी कमीज उतार दी. उसने आज ब्रा नहीं पहनी हुई थी. मैंने आज पहली बार किसी की नग्न चूचियाँ देखी थी, उसने मुझे उन्हें मुंह में लेकर चूसने को कहा जैसा ब्लू फिल्म में चल रहा था।
मैं पागलों की तरह उन्हें चूसने लगा, मुझे बहुत अच्छा लगा, मैं दूसरी चूची को दबाने लगा.
उसे भी बहुत अच्छा लग रहा था, वो अह्ह.. अह्ह्ह… अहह की आवाजें निकाल रही थी.
क्योंकि हम सबसे उपर वाले कमरे में थे इसलिए किसी का कोई डर नहीं था।
मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था, अचानक से उसने मेरी पैंट की जिप खोली और ब्लू फिल्म वाली लड़की की तरह मेरा लंड चूसने लगी.
मैं भी सेक्स, बुर की चुदाई के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानता था इसलिए कुछ नहीं कर रहा था.
तभी मेरा वीर्य निकल गया, उसने उसे थूक दिया और अपनी सलवार उतार कर फ़ेंक दी.
अब वो मेरे सामने सिर्फ पेंटी में थी. मैंने वो उतार दी, उसकी बिना बालों वाली बुर मेरे सामने थी, उसमें से कुछ चिपचिपा सा निकल रहा था। तभी उसने मेरा मुंह अपनी बुर पर लगा दिया. मैं भी उसे जीभ से चाटने लगा. उसमें से फिर कुछ निकल रहा था, वो थोड़ा नमकीन था.
अब मेरा लंड दोबारा खड़ा होने लगा था, मैंने उसे ऊपर उठा कर बिस्तर पर लेटाया और उसकी बुर के छेद पर लगाया और एक जोर का धक्का मारा और मेरा लंड आधे से ज्यादा अन्दर चला गया वो रोने लगी और चिल्लाने लगी.
मैंने देखा कि मेरे लंड पर खून लगा हुआ है, मैं समझ गया कि उसकी बुर की सील टूट गई है।
वह बार बार लंड निकालने को कह रही थी पर मैंने सोचा कि अगर इस समय लंड निकल लूँगा तो यह फिर कभी नहीं डालने देगी इसलिए मैं लंड न निकाल कर उसके ऊपर लेट गया और उसे किस करने लगा। थोड़ी देर में वो शांत हो गई और कहने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे चोदो… मुझे चोदो…
अब मेरा लंड दर्द करने लगा था, मैंने धक्के मारने चालू कर दिए, मैं 10 मिनट तक धक्के मारते रहा.
अचानक उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और झड़ गई पर अभी मेरा नहीं हुआ था इसलिए मैं धक्के मारते रहा और 7-8 मिनट बाद मैं भी उसकी बुर में झड़ गया और उसके बगल में लेट गया। फिर हमने अपने अपने कपड़े पहने और मैं अपने घर वापस आ गया।
मैं वहाँ पर 2 महीनों तक रहा और उसकी बुर की खूब चुदाई की.
फिर उसके मम्मी पापा ने उसकी शादी कर दी, उसके बाद वो मुझे कभी नहीं मिली.

(203)

FUDISEX © 2017