FUDISEX

PORN DIRECTORY, sex stories, indian sex stories, desi sex stories, hindi sex stories, aunty sex, virgin sex,

पड़ोसी मित्र की बहन

यह देखकर मैंने धीरे-धीरे सुरैया को चोदना शुरू किया। उसकी दबी हुई मादक आवाज़ ‘आह्ह… आह्ह्ह… ह्ह्ह्ह्ह… से पूरा कमरा गूँजने लगा।

मैं अब उसे पूरे जोश से चोदने लगा, उसकी उत्तेजना से भरी आवाजें मुझे और उत्तेजित कर रही थी, तो मैं पूरे जोश में उसे चोदने लगा।

वो बोली- प्लीज धीरे ! मैं यहीं पर हूँ कहीं भाग नहीं रही हूँ !

और मुस्कुराने लगी।

2-3 मिनट की चुदाई के बाद उसने मुझे कसकर पकड़कर अपने तरफ खींच कर जकड़ लिया और ‘आह्ह्ह… आह्ह… ह्ह… ह्ह्ह…’ करके वो झड़ गई और वो निढ़ाल हो गई।

मेरा अभी बाकी था, तो मैं रूका नहीं, मैं चोदे जा रहा था।

वो बोली- बस करो अब !

मैं बोला- मेरा नहीं हुआ है, मेरी जान !

और मैं उसे चोदने लगा, अगले 2 मिनट धकाधक चुदाई के बाद मैंने अपना माल सुरैया की चूत के उपर गिरा दिया। हम दोनों काफी संतुष्ट थे।

वो मेरे सीने पर अपना सर रखकर बोली- आज आपने मुझे लड़की से औरत बनने का सुख दिया है, भले ही मेरी उम्र अभी कम है !

फिर वो उठी, खुद को साफ किया, ठीक किया और मुझे एक चुम्बन करके चली गई।

उसके बाद हमें जब भी मौका मिलता, हम चुदाई करके खुद को तृप्त करते !

(124)

FUDISEX © 2017