FUDISEX

PORN DIRECTORY, sex stories, indian sex stories, desi sex stories, hindi sex stories, aunty sex, virgin sex,

मैं सोया था और पडोसन चुदवा के चली गयी

मैं रविकांत उम्र २२ साल जयपुर के इंजीनियरिंग कॉलेज में पढता हु, मैं मॉडलिंग भी करता हु, देखने में काफी सुन्दर हु, मैं कॉलेज में मिस्टर कम्पटीशन में फर्स्ट आया हु, ६ फिट का हु, सारी लड़कियां मुझपे फ़िदा रहती है पर आज तक मैंने कई लड़कियों से सेक्स सम्बन्ध बनाया हु, पर एक जो सबसे यादगार है वो मेरी पड़ोस की खूबसूरत भाभी जी के साथ है, आज मैं आपको अपना एक्सपीरियंस शेयर कर रहा हु |

मैं जयपुर के एक फ्लैट में रहता हु, मेरे ऊपर के फ्लोर एक एक वाइफ हस्बैंड रहते है, हस्बैंड का अपना शॉप है इलेक्ट्रॉनिक्स का वो सुबह ९ बजे ही चले जाते है, घर में कविता भाभी रह जाती है उनके कोई बच्चे नहीं है, शायद हुए ही नहीं है क्यों की शादी के ४ साल हो गए है भाभी की उम्र लगभग २८ साल के करीब है, अक्सर वो साडी पहनती है, ब्लाउज हमेशा स्लीवलेस पहनती है, बूब उनका ३६ के साइज का होगा, बूब उनका काफी टाइट और प्रॉपर सेप में है, वो हमेशा ब्रा ऑनलाइन खरीदती है क्यों की अकसर मैं देखता हु, इ कॉमर्स बाले कुछ ना कुछ डिलीवरी करने आते रहते है.
नैन नक्सा काफी सुन्दर है, अगर आप एक लाइन में उनको डिफाइन करना चाहेंगे तो कहेंगे “सेक्स बम” लगती है, मेरे से ज्यादा बात चित नहीं है पर पडोश में रहने के कारण कई चीज़ो के लिए पूछताछ करते रहती है, अक्सर वो मेरे घर में पानी लेने आती है, क्यों की उनके घर में पानी अक्सर खत्म हो जाता है, मेरा टंकी हमेशा भरा रहता है क्यों की मैं ज्यादा पानी का इस्तेमाल नहीं करता, तो यही हुआ मैं एक दिन कॉलेज से ११ बजे ही आ गया था, और मैं अपने बेड पे लेटा था, कपडे सारे उतार दिए थे, बस तौलिया लपेटा हुआ हु यहाँ तक की मैं जाँघिया भी उतार दिया था गर्मी की वजह से, मेरा मुख्य दरवाजा खुला ही था, और मुझे नींद आ गयी थी,

जब मैं उठा तो देखा भाभी जी साड़ी उठा के मेरे लैंड पे बैठने की कोशिश कर रही थी, वो बहुत ही कामुक लग रही थी आँचल निचे सरका हुआ था बड़ी बड़ी चुच उनके ब्लाउज से बाहर आने को बेताब था, मेरा लैंड तुरंत स्टील के रॉड की तरह हो गया, मैं जग गया था पर अपनी आँख बंद किये था भाभी जी अपने होठ को दाँतों से दबा रही थी, और लंड को सीधा कर के अपने चूत में दाल ली, अब क्या था उनकी बड़ा सा गांड मेरे लंड पे थप्पक थप्पक और चूत में लंड फच फच फच कर रहा था और उनके मुह से आह्ह्ह्ह आआआह्ह्ह्ह आआअह्ह्ह्ह आआअह्ह्ह्ह्ह्ह उउउउउउफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़ उउउफ्फ्फ्फ्फ़ की आवाज आ रही थी, फिर भाभी जी मेरे तरफ झुकी और मेरे छाती को सहलाने लगी मेरे निप्पल को दो उँगलियों से दबा रही थी,

भाभी जी फिर अपने ब्लाउज की हुक को खोल दिया और पीछे से ब्रा का हुक भी अब तो उनकी बड़ी बड़ी चूचियों को खुद ही मसलने लगी, फिर वो एक चूची को अपने जीभ से पास ले गयी और निप्पल को जीभ से चाटने लगी, फिर वो चूत से लंड से निकली और मेरे घुटने के पास चली गयी, मेरा लंड क़ुतुब मीनार की तरह खड़ा था उन्होंने अपने हाथ से लंड को पकड़ा और मैस्टर्बेटिंग करने लगी फिर वो अपने मुह में ले ली, मेरे लंड पे सफ़ेद सफ़ेद क्रीम सा कुछ लगा हुआ था वो मेरे लंड को चूसने लगी,

मैं तब भी आँख नहीं खोला पूरा जरा जरा से आँख खोल के देख रहा था उनके कारनामे, फिर वो करीब ५ मिनट तक लंड को चूसी फिर अजीब से आवाज निकली आआआआआआआआऔउउउउउउउउउउउउउउफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़ शायद वो झड़ गयी थी, फिर उन्होंने अपने ऊँगली से मेरे होठ को छुइ और अपने होठ पे लगाई, वो फिर से बड़ा सा गांड को मेरे लंड के पास लायी और चूत को फिर से सेट की और फिर बैठ गयी, पूरा का पूरा लंड उनके चूत में समा गया, फिर फच फच फच और उनके मुह से आआह आअह आअह कर रही थी, करीब ५ मिनट तक धीरे धीरे फिर वो एकदम तेज हो गई, जोर जोर से गांड को उठा के पटक रही थी मेरा मोटा और लम्बा लंड उनके चूत के लास्ट पोजीशन तक जा रहा था. आप ये कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे पढ़ रहे है.

तभी एक जोर की आवाज की आआआआआआआआअ आआआआआआआआ उउउउउउउउउउउउउउउ उउफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ और वो झड़ गयी साथ में मेरे लंड से एक पिचकारी सी निकली और उनके चूत में सारा माल चला गया, फिर वो जल्दी से निचे हुयी और दुबारा जब फिचकारी के तरह हुआ वो अपने मुह में ले ली, अब थोड़ा थोड़ा मेरा वीर्य लंड के छेड़ से निकल रहा था उसे वो साफ़ कर रही थी, फिर वो तुरंत बेड से निचे हो गयी और फटाफट ब्लाउज का और ब्रा का हुक लगायी और साडी और आँचल को ठीक की, और फटा फैट मेरे कमरे से निकल गयी, मैं तब आँख खोला और अब उनकी याद में मूठ मारने लगा. फिर वो माल निकला मैंने भी उसे अपने हाथ में लेके चाट गया, जब मैं उठा तो देखा मेरे घुटने के पास भाभी जी की चूत का पानी निकला हुआ था मैंने उसे भी ऊँगली से चाट गया.

शाम को मैं आ रहा था तभी भाभी जी निचे उत्तर रही थी, मुझे देखकर मुस्कुराते हुए निचे उत्तर गयी, बोलते हुए गयी मैं कल दोपहर को पानी लेने आउंगी, कल जगे रहना.

(290)

FUDISEX © 2017